Posts Tagged ‘beloved’

Smile

Posted: October 29, 2014 in Uncategorized
Tags: , , , , , ,

image

Advertisements

Smile

Posted: October 29, 2014 in Uncategorized
Tags: , , , , , ,

image

If He Must Go

Posted: May 6, 2014 in Death, Life, Love, Pain
Tags: , , , , , , ,

image

I said don’t go my man
Don’t go for I will die
as the thought crosses my mind
With fear and pain I shiver and cry!

For the love of his nation
He says he must leave
This land is his mother & love
She is prior and supreme!

My lady please be strong
Don’t be so mean and selfish
I promise I will come back
To hug you again, to love & kiss.

Have some compassion on my nerves
My dear man look into my eyes
With pain they shed tears
For your love they try to look nice.

Your Lady is not a warrior
Neither is she a warrior’s wife
She is ready to die for you
But she can’t imagine her life!

I feel so small in this world
He says, I will come back as a man
better than what I am today
Then I will be your mate, your man!

If it is your dream and desire
Then I will say not a word
I said, I am ready to fall
To see you rise in the world.

My man is the soul in this relation
I am just the perishable body
while body is dead without a soul
A soul becomes eternal and free!

If he must go
Then I must leave
Towards the wide sky
To ocean blue and deep!

परदेसी

Posted: April 14, 2014 in Love
Tags: , , , ,

Image

कमजोर कहो तुम उस मिट्टी को
जिसने था तुमको जन्म दिया
और छोड़ चलो परदेस बाबू
ऐसा क्या तुमपर करम किया?

माना रही माहान कभी
अब अबला है बेचारी है
जाने कितने बच्चे इसके
पर बांझ सी इक नारी है।

अब बचा नहीं कुछ खास यहाँ
बस हिंसा है घोटाले है
नैन रहे इसके अंगारें
अब नीर भरे दो प्याले है।

बेबस सी लाचार ये माँ
कहती है मुझको अपनाओ
मेरी ख्याती विश्व सराहे
ए सुपुत्र तुम भी दोहराओ।

अपने सफल भविष्य के खातिर
अनसुनी कर इसकी फरियाद
छोङ चलो परदेस बाबू
ऐसा क्या देगी ये मात?

पैसा ही बस चाहो तुम
और चाहो ना कुछ मेरे सयिय्या
सात समुद्र पार रहो
मझधार मे कर मेरी नयिय्या।

प्रेम मेरा किस काम का
ना शिक्षा न देगा पैसा
दो पल मेरे साथ बिताओ
फिर होगा जाने कब ऐसा।

छोङ चलो मुझको पिया
देखो ना मेरी सूरत
तुम मेरे प्राणो के रखवाले
मैं माटी की मूरत बदसूरत।

जा रहे तुम दूर बहुत
छोङकर बेबस नारी
बूढी माँ और बेचैन माशूका
लगती थी सबसे प्यारी।

ये बाधा और अवरोध लगे
अब बचा ही क्या है इनके पास
छोड़ चलो परदेस पिया
है ही क्या अब इनमें खास?